Call us: 1-877-693-HEAL (4325)

कमल

कमल की पंखुड़ी की तरह खिल जा
देख सूरज की रौशनी को
फरक न पड़ता इस में
कि वह पैदा हुआ कीचड़ में
स्वच्छ पानी से धुल
एक दिन चढ़ जायेगा
भगवन के चरण में

Leave a comment

Please note, comments must be approved before they are published